Best education thought in hindi में जाने छात्रों के लिए प्रेरक विचार

education thought in hindi के इस आर्टिकल में हम स्टूडेंट्स के लिए ऐसे विचारों की श्रृंखला लाये है, जिसे सभी स्टूडेंट्स को जरुर पढना चाहिए। क्यों की स्टूडेंट्स के लिए शिक्षा पर मोटिवेशनल बाते जरुरी है, जिस से स्टूडेंट्स प्रेरणा लें सकें और उन बातों से काफी कुछ सिख सकें। education thought in hindi में ऐसी कुछ बाते हो जो स्टूडेंट्स को आगे बढने की प्रेरणा दे सकें।

Best education thought in hindi
Best education thought in hindi

हेल्लों दोस्तों, मेरा नाम है संदीप और sandipdhore.com के माध्यम से मैं आप को एजुकेशनल जानकारी देता हूँ। लेकिन आज का education thought in hindi का यह आर्टिकल एजुकेशनल जानकारी पर नही हैं, अपितु इस आर्टिकल के माध्यम से शिक्षा पर मोटिवेशनल बाते कहने जा रहे है, और साथ ही महान व्यक्तियों के एजुकेशन मोटीवेशनल कोट्स भी इस आर्टिकल में आप पढेंगे।  चलों शुरू करते है।

शिक्षा पर मेरे विचार – education thought in hindi

दोस्तों, शिक्षा जिसे एजुकेशन भी कहते है, आसन शब्दों में कहे तो शिक्षा हमारे जीवन की पथ दर्शक है, अगर आप शिक्षित है, तो जीवन यापन की कई तरह की opportunity आप के सामने है, और अगर आप शिक्षित नही है, तो जीवन जीने के लिए कई मार्ग सिमित हो जाते है, कठिन हो जाते है। जीवन में शिक्षा बेहद जरुरी है, यह तो आप सभी जानते है।

लेकिन हमारे बुद्धि के विकास के लिए, विचारों की व्यापकता के लिए, कई तरह के नये अविष्कार करने के लिए हमारी सोच को विस्तार देने के लिए शिक्षा एक महत्वपूर्ण अंग है। यह तो हो गयी एजुकेशन के इम्पोर्टेन्ट की बात। यह आप सभी जानते है। लेकिन कई स्टूडेंट्स मुझ से पूछते है की पढाई कैसे करें?। तो उन के लिए कुछ टिप्स इस आर्टिकल में दिए है, हो सकते है की यह टिप्स कई लोगों के विचारों से अलग हो, लेकिन यह मेरे अपने विचार है, जो मेरी वैचारिक प्रगल्भता से विकसित हुए है, और यही शिक्षा का महत्त्व है। 

education thought in hindi में जानेंगे हमें कैसे पढ़ना चाहिए 

दोस्तों, पढाई से हमारी सोचने की क्षमता विकसित होती है, जिस से हम अपने विचारों को विस्तार देते है। हमेशा एक बात ख्याल रखना की, कोई भी शिक्षक किसी भी स्टूडेंट्स को सिर्फ बता सकता है, पढ़ा नही सकता, स्टूडेंट्स को खुद ही पढना होता है। जो स्टूडेंट इस बात को गौर से सोच कर समझेगा वह पढाई को अलग नजरिये से देख सकता है।

पढाई किसे कहते है? तो आम तौर पर हम यह कह सकते है की,एक शिक्षक जो हमें बताते है उस का आकलन कर व्यापक तौर पर उसके पठन, मनन और चिंतन को ही हम पढाई कह सकते है। लेकिन हम किसी भी विषय का आकलन हम तब कर सकते है, जब हम खुद को उस विषय को समझने के लिए प्रेरित करते है।

कई स्टूडेंट्स मुझ से कहते है  की पढाई के वक्त हमारा ध्यान भटक जाता है? दोस्तों, पढाई के वक्त ध्यान इसीलिए भटकता है, क्यों की हम उस विषय को समझ नही पाते और फिर हम पढाई को बोझ समजने लगते है। 

पढाई के वक्त जो भी विषय हमें कठिन लगता है, उस के लिए हमे उस विषय को शुरुवात से समझने की जरूरत होती है। जब हम किसी विषय को शुरु से समझने की शुरवात करते है तब उस विषय की सरलता का हमें आभास होता है।

किसी भी शिक्षक द्वारा बताई गयी बात को हम अपने आकलन से कितनी आसानी से रख पाते है, इस का अभ्यास एक स्टूडेंट्स के लिए जरुरी है। जब हम किसी भी विषय को खुद से समझने की कोशिश करते है तो यक़ीनन पढाई आसान हो जाती है।

पढाई के दौरान अपनी सोच को विस्तार देना काफी अहम है, कई स्टूडेंट्स सोचते है की हम पढाई के दरम्यान अपने सोच या आकलन को कैसे विस्तार दें, लेकिन दोस्तों, जब भी आप किसी विषय की, या किसी टॉपिक की पढाई करते है तब उस पढाई के रिलेटेड कुछ example बनाएं।  ताकि जब भी आप के सामने इस से रिलेटेड सवाल आये तो आप के दिमाग में वह example आ जायेगा, जिस से आप को पढाई को ध्यान में रखना आसान हो जायेगा।

एक स्टूडेंट के तौर पर हम खुद का आकलन कैसे करें? education thought in hindi

  1. स्टूडेंट वह होता है जो हमेशा अधिक ज्ञान पाने की कोशिश करता है, हर जगह से ज्ञान को बटोरने के लिए तैयार रहता है।
  2. स्टूडेंट वह होता है जो खुद से सवाल पूछता है, की किसी विषय का प्राप्त किया हुआ ज्ञान के पर्याप्त है, या उस विषय के बारे में अधिक जानना आवश्यक है?
  3. स्टूडेंट वह होता है जो अपने प्राप्त ज्ञान का आकलन करता है और उसे अपने सोच से विस्तार देता है
  4. कोई भी शिक्षक अपने स्टूडेंट्स को विषयों के बारे में बताता है, लेकिन स्टूडेंट शिक्षक की बताई बातों का आकलन कर खुद पढता है। क्यों की स्टूडेंट को खुद पढना पड़ता है।

पढ़ाई में ध्यान कैसे लगाएं? education thought in hindi

कई स्टूडेंट्स पढाई के वक्त अपना ध्यान नही लगा पाते, ऐसे में उन्हें समझ नही आता की पढाई में कैसे ध्यान लगाये?  उन सभी स्टूडेंट्स के लिए हम education thought in hindi के इस आर्टिकल में कुछ टिप्स लाये है जो उनके पढाई में ध्यान लगाने के लिए महत्वपूर्ण है।

  • पढाई करते वक्त उस विषय को सब से पहले चुने जिस में आप सब से अधिक रूचि रखते है।
  • पढाई करने से पहले १० मिनट खुद को शांत रखें, इस के लिए एक स्थान पर बैठ कर, आखें बंद करें और गहरी साँस लें और बाहर छोड़े।
  • पढाई के दरम्यान मन में आनेवाले दुसरे विचारों को अस्वीकार करें ( इस को बार बार करें इस का अभ्यास जरुरी है।)
  • पढ़ाई करते वक्त आप ने जो भी पढ़ा है उस के बारे में खुद के विचार एक नोटबुक पर लिख कर रखें। 
  • पढाई के वक्त विचारों की गति को कम करने के लिए आप को अपने डेली रूटीन में योग और ध्यान क्रिया को शामिल करना चाहिए।
  • आप जो पढ़ रहे है उसे शिक्षक द्वारा कैसे पढाया गया इसे याद करने की कोशिश करें।
  • आप जो भी पढ़ रहे है उसे उदहारण के साथ जोड़े ताकि आप पढाई सहजता के साथ याद रख पायें। 
  • खुद को पढाई के प्रति पॉजिटिव बनाये – इस के लिए बार बार खुद से बात करें, खुद को पढाई का महत्व समझाएं।

education thought in hindi – एजुकेशन मोटीवेशनल कोट्स

  • “एक छात्र की सबसे महत्वपूर्ण गुण यह है कि वह हमेशा अपने शिक्षक से सवाल पूछे।”
  • “एक बेहतरीन किताब 100 अच्छे दोस्त के बराबर है, लेकिन एक सर्वश्रेष्ठ दोस्त पुस्तकालय के बराबर है।” 
  • “अगर तुम अपनी ज़िंदगी अपने तरीके से नहीं जीओगे तो लोग अपने तरीके तुम पर लाध देंगे |
  • “शिक्षा का उद्देश्य तथ्यों को सीखना नहीं होता है बल्कि शिक्षा का मुख्य दिमाग को प्रशिक्षित करना होता है।“
  • “एक व्यक्ति ने कभी गलती नहीं की, जब उसने कभी भी कुछ नया करने की कोशिश नहीं की यानी जब हम कुछ नया करते है तभी गलतियां होना स्वाभाविक है।”
  • “भूतकाल से सीखते हुए वर्तमान में जीएं और भविष्य की आशा करना ही शिक्षा है।”
  • “मुझमें कोई विशिष्ट प्रतिभा नहीं है। मुझे केवल जुनून की हद तक उत्सुकता है।”
  • “किसी भी प्रकार का भय और अधूरी इच्छा ही हमारी दुखों का कारण है।”
  • “हम जितना अधिक संघर्ष कर सकते है जीत हमारी उतनी ही शानदार होगी।”
  • “भगवान सिर्फ उन्ही की सहायता करता है जो लोग खुद अपनी सहायता स्वयं करते हैं।”
  • “जिस दिन आपके सामने कोई समस्या न आए उस दिन आप यकीन कर सकते है कि आप गलत रास्ते पर जा रहे है।”
  • “अपने जीवन का लक्ष्य निर्धारित करो और सभी दूसरे विचार को अपने दिमाग से निकाल दो यही सफलता की पूंजी है।”
  • “शिक्षा क्या है जो तब तक याद रहता है जब तक उसे अपने जीवन में लागू करते है नही तो वह सीखकर भुलाया गया एक पल है।”
  • “हमने स्कूल में जो सीखा है वह सब भूलने के बाद जो याद रहता है, वही शिक्षा है। ज्ञान का निवेश सर्वोत्तम भुगतान करता है।”
  • “ज्ञान ही शक्ति है। जानकारी स्वतंत्रता है। प्रत्येक परिवार और समाज में शिक्षा, प्रगति का आधार है।” 
  • “यह एक शिक्षित दिमाग का लक्षण है, जो एक विचार को स्वीकार किए बिना भी उससे मनोरंजन करने में सक्षम है।”
  • “शिक्षा सबसे शक्तिशाली हथियार है जिसे आप दुनिया को बदलने के लिए उपयोग कर सकते हैं।”
  • “शिक्षा का कार्य गहराई से और गंभीर रूप से सोचना सीखना है। बुद्धिमत्ता के साथ चरित्र – यही सच्ची शिक्षा का लक्ष्य है।”

 हर स्टूडेंट्स की आकलन क्षमता अलग होती है, और पढाई के लग लग प्रोब्लेम्स भी होते है, अगर कोई स्टूडेंट्स किसी कारण से पढाई में मन नही लगा पा रहा है, तो वो मुझ से बात कर सकता है। यदि पढाई से रिलेटेड आप के कुछ सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में मुझ से पूछे।

फ्रेंड्स, कोई भी विषय या एग्जाम हार्ड नही होती, बस हम उस का आकलन कैसे करते है, इस पर निर्भर करता है। एक स्टूडेंट्स यदि सोचे तो वे कुछ भी कर सकता है। किसी भी एग्जाम में टॉप कर सकता है,  लेकिन इस के लिए पढाई का माइंड सेट करना आवश्यक है। अगर आप को हमारे द्वारा बताई गयी एजुकेशन मोटीवेशनल कोट्स और education thought in hindi के यह प्रेरक बाते अच्छी लगी तो कमेंट जरुर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!