पोमोलॉजी क्या है?

पोमोलॉजी वनस्पति विज्ञानं  की ऐसी शाखा है जिस में सभी वर्गों के फलों का अध्ययन किया जाता है।

पोमोलॉजी को हिंदी में फल कृषक विज्ञानं  या फल उगाने की कला भी कहाँ जाता है।

पोमोलॉजी वनस्पति विज्ञानं के अंतर्गत अंकुरण से लेकर कटाई के बाद की गुणवत्ता तक फसलों को उगाने के तरीके पर शोध करता है।

पोमोलॉजी फलों की किस्मों में बढ़ती रुचि को पूरा करने के लिए फलों और मेवों के विकास को बढ़ाती है। 

पोमोलॉजी में अध्ययन करने वाले अभ्यार्थी एवं विशेषज्ञ को पोमोलॉजिस्ट कहाँ जाता है। 

पोमोलॉजिस्ट फलों की विभिन्न नई और पारंपरिक किस्मों के विकास, प्रजनन, संकरण और मूल्यांकन के तरीकों पर शोध करते हैं। 

पोमोलॉजी किसानों और उत्पादकों को बहुमूल्य जानकारी प्रदान करती है कि वे अपनी पैदावार को कैसे अनुकूलित कर सकते हैं।  

यह वनस्पति विज्ञानं की शाखा बढ़ते बाजारों के लिए आवश्यक है क्योंकि यह खाद्य और औषधीय फसलों के विकास को आसान बनाता है।