क्वांटम ग्रेविटी को विस्तारित तौर पर जानने की है जरूरत  

भौतिकी के चार मूलभूत बलों में से तीन को क्वांटम यांत्रिकी और क्वांटम क्षेत्र सिद्धांत के ढांचे के भीतर वर्णित किया गया है । 

चौथा बल  गुरुत्वाकर्षण यह अल्बर्ट आइंस्टीन के सापेक्षता के सामान्य सिद्धांत पर आधारित है, जो क्वांटम ग्रेविटी के तौर पर जाना जाता है। 

क्वांटम ग्रेविटी क्वांटम फिजिक्स का एक क्षेत्र है जो क्वांटम यांत्रिकी के सिद्धांतों के अनुसार गुरुत्वाकर्षण का वर्णन करना चाहता है। 

हालाँकि, इस में कई तरह की समस्याएं है, जो क्वांटम ग्रेविटी को सही तरह से जानने में अभी सक्षम नही हो पायी है। 

क्वांटम गुरुत्व का क्षेत्र सक्रिय रूप से विकसित हो रहा है, और सिद्धांतकार क्वांटम गुरुत्व की समस्या के लिए विभिन्न दृष्टिकोणों की खोज कर रहे हैं। 

लेकिन मेरा मानना है की गुरुत्वाकर्षण के लिए हमने अलग तरह के दृष्टिकोण पर विचार करने की जरूरत है। 

एक बल के तौर पर गुरुत्वाकर्षण को जानना ही कई समस्याओं का कारण भी हो सकता है। 

हो सकता है गुरुत्वाकर्षण ब्रम्हांड में विहित कई तरह की उर्जा का स्त्रोत हो, साथ ही गति, समय, और अंतर को अलग अलग तरह से नियंत्रित करता हो। 

अगर आप क्वांटम फिजिक्स  क्या है यह जानना चाहते है, तो निचे लिंक पर क्लिक कर हमारा यह आर्टिकल पढ़े