सचेतन ध्यान कैसे करें  

सब से पहले प्रातः के सभी कार्यों से निवृत्त होकर एक खाली और शांत जगह का चयन करें  

एक आसन बिझाकर आप जिस स्थिति में सहज बैठ सकते है उस स्थिति में आसन पर बैठ जाए  

अब आँखें बंद कर आप अपनी सांसों को धीरे धीरे गहराई के साथ अन्दर की और खीचना शुरू करे और धीरे धीरे ही बाहर छोड़े 

अब आप को शरीर में सभी संवेदनाओं को पहचानना है. -  सब से पहले अपने ध्यान को अपने पैरों से ले कर शरीर के सभी अंगों पर लाये  

अब आप को शरीर में सभी संवेदनाओं को पहचानना है. -  सब से पहले अपने ध्यान को अपने पैरों से ले कर शरीर के सभी अंगों पर लाये  

अब आप धीरे धीरे अपने मस्तिष्क के बारे में गहरे से सोचे, मन ही मन अपने मस्तिष्क को आराम करने को कहते रहे 

अब आप अपना ध्यान साँस की गहराई पर लाये, सोचे आप सुकून से पूर्ण सास ले रहे है जो आप के भीतर गहराई में पहुच रही है 

ऐसे में अगर आप का मन भटकता भी है तो भी पुनः पुनः अपने विचारों को साँस की गहराई पर केन्द्रित करें  

आप अपने भीतर सुकून और शांति, प्रसन्नता का अनुभव प्राप्त करेगे अब आप धीरे धीरे अपनी आखों को खोले और थोड़ी देर उसी स्थिति में रुककर अपने दैनंदिन कामों की शुरवात करे